गुरु अंगद देव जी का इतिहास 2 Guru

गुरु अंगद देव जी का इतिहास

Q1 गुरु अंगद देव जी का पहला नाम क्या था?
Ans भाई लहना जी।
Q2 गुरु अंगद देव जी के पिता का क्या नाम था ?
उत्तर भाई फेरू मल्ल जी।
Q3 गुरु अंगद देव जी की माता का क्या नाम था?
Ans माता दया कौर जी।
Q4 गुरु अंगद देव जी का जन्म कब हुआ था ?
Ans सन 1504 ई.
Q5 गुरु अंगद देव जी का आसन कहाँ था ?
Ans माटे (नांगे) की सराय मे  (अब जिला मुक्तसर साहिब कहा जाता है)
Q6 गुरु अंगद देव जी का विवाह कब हुआ था ?
Ans सन् 1519 ई.
Q 7 गुरु अंगद की पत्नी का क्या नाम था?
Ans माता खिवी जी।
Q 8 गुरु अंगद देव जी के पुत्रों और पुत्रियों के क्या नाम थे?
Ans पुत्रों के नाम –  श्री दासु जी और श्री दात्तू जी। पुत्रियों के नाम – बीबी अमरो जी और बीबी अनोखी जी।
Q 9 किस सिख से गुरु अंगद देव जी को गुरबानी सुनने के बाद गुरु नानक देव जी से मिलने की इच्छा हुई?
उत्तर भाई जोध जी से।
Q10 गुरु अंगद देव जी पहले गुरु नानक देव जी से कहाँ मिले थे?
Ans करतारपुर साहिब (पाकिस्तान)।
Q 11 भाई लहना जी ने कितने वर्ष गुरु नानक देव जी की सेवा की?
उत्तर – लगभग 7 वर्ष।
Q12 गुरु अंगद देव जी ने किस गुरु साहिब से गुरुत्व प्राप्त किया था?
पहले पटशाही गुरु नानक देव जी से।
Q13 गुरु अंगद देव जी को गुरुत्व कब प्राप्त हुआ?
सन् 1539 ई.
Q14 गुरु अंगद देव जी ने सिख धर्म का प्रचार करने के लिए किस स्थान को चुना था?
उत्तर श्री खडूर साहिब, जिला तरनतारन।
Q15 गुरु अंगद ने लंगर का प्रबंधन किसे सौंपा था?
उत्तर माता खिवी जी को।
Q16 गुरु ग्रंथ साहिब में गुरु अंगद देव जी की कितनी बानी दर्ज हैं?
उत्तर 63 सलोक वारों में दर्ज हैं।
Q17 गुरु अंगद देव जी के आसा की वार में कितने श्लोक हैं?
15 श्लोक हैं।
Q18 गुरु अंगद देव जी की बानी कितने रागों में दर्ज है?
उत्तर 10 राग में।
Q19 गुरु अंगद देव जी से जुड़े पांच गुरुद्वारों के नाम लिखिए?
उत्तर (1) गुरु साहिब जन्म स्थान पटशाही दूसरी सराय नागा। (2) गुजरात: तपियाना साहिब, खदुर साहिब (3) गुजरात: मॉल अखाड़ा साहिब खदुर साहिब (4) गुजरात: साहिब पटशाही दूजी खान छापरी (5) गुजरात: दरबार अंगीथा साहिब, खदुर साहिब।
Q 20. गुरुमुखी लिपि का विकास किस गुरु साहिब ने किया था?
गुरु अंगद देव जी द्वारा
Q 21. उस स्थान का क्या नाम है जहां गुरु अंगद देव जी कुश्ती का आयोजन किया करते थे?
उत्तर। गुरुद्वारा मॉल अखाड़ा साहिब, खदुर साहिब।
Q 22. हुमायूँ से हारने के बाद शेर शाह सूरी गुरु अंगद देव जी के पास कहाँ आया था?
खदुर साहिब में।
Q 23 गुरु अंगद देव जी का निधन कब और किस उम्र में हुआ था?
1552 ई. में 48 साल की उम्र मे जोति जोत समाए ।
Q 24 श्री गुरु अमर दास जी श्री गुरु अंगद देव जी की सेवा में कैसे आए?
अमृत ​​के समय गुरु अंगद देव जी की पुत्री बीबी अमरो जी द्वारा बानी का पाठ सुनकर।
Q25 गुरु अंगद देव जी ने किसको आगे गुरुत्व प्रदान किया?
उत्तर गुरु अमर दास जी को।