Puma Kis Desh Ki Company Hai

हैलो दोस्तों आज हम आपको बताने जा रहे है के (Puma) प्यूमा किस देश की कंपनी है और इसके बारे मे आपको पूरी जानकारी देंगे तो चलिए आज का ये आर्टिकल सुरू करते है

Puma Kis Desh Ki Company Hai – प्यूमा कंपनी कहा की है

प्यूमा जर्मनी (Germany) देश की कंपनी है और इनका मुख्यालय जर्मनी के (हर्ज़ोजेनौराच) Herzogenaurach डिस्ट्रिक्ट मे है


Puma Company Ka malik Kaun Hai
Rudolf Dassler – The Founder of PUMA Brand

दोस्तों इनका नाम Rudolf Dassler है और इन्होंने ने Puma कंपनी की सुरुवात की थी

— Rudolf Dassler, Founder of PUMA

प्यूमा क्या है

प्यूमा एक स्पोर्ट्स फूटवेयर कंपनी है जो के स्पोर्ट्स के जूते और कपड़े बनाती है और इसकी सुरुवात दो भाईओ ने एडोल्फ डोसलर और रुडोल्फ डोसलर ने मिलकर की थी और इसका सबसे पहला नाम “डैस्लर ब्रदर्स शू फैक्ट्री” रखा गया था

लेकिन बाद मे इन दोनों भाईओ की आपसी मतभेद के कारण इन दोनों ने अपनी अलग अलग कंपनीया खोल ली अडोल्फ़ डोसलर ने अपनी कंपनी का नाम Adidas रख लिया

और वही रुडोल्फ डोसलर ने अपनी कंपनी का Puma रख लिया और तब से ये दोनों एक दूजे के प्रतिद्वन्द्वी बन गए

Puma Company Ka malik Kaun Hai

प्यूमा कंपनी का मालिक रुडोल्फ डोसलर थे लेकिन अब इसकी मालिक Groupe Artemis नाम की कंपनी है

Puma Company Ka malik Kaun Hai
Groupe Artemis S.A

Groupe Artemis S.A – ग्रुप आर्टेमिस S.A फैशन, वाइन, लग्शरी, कला, टुरिस्ट, प्रकाशन, स्पोर्ट्स, भोजन और टेक्नॉलजी ऐसी चीजों में निवेश करने वाली एक होल्डिंग कंपनी है इसका मुख्यालय पेरिस, फ्रांस में है, ग्रुप आर्टेमिस की स्थापना फ्रांकोइस पिनाल्ट द्वारा 1992 में एक पारिवारिक निवेश वाहन के रूप में की गई थी

प्यूमा का मुख्यालय कहा है

प्यूमा का मुख्यालय Germany के Herzogenaurach डिस्ट्रिक्ट मे है

FounderRudolf Dasler
Founded Year1948
HeadquarterHerzogenaurach, Germany
Products1. Sportswear 2. Footwear 3. Apparel 4. Accessories 5. Sports Equipment
Owner (मालिक )1. Artemis के Puma के 28% शेयर है
2. Kering के Puma के 9.8% शेयर है
Revenue€5.50 Billion in 2019
Total Assets€4.37 Billion in 2019
Total Equity€1.92 Billion in 2019
Operating Income€440 Million in 2019
Net Income€262 Million in 2019
Numbers of Employees14,332 Employees
Websitewww.puma.com

प्यूमा का इतिहास

क्रिस्टोफ़ वॉन विल्हेम डैस्लर एक जूते बनाने वाले कारखाने में एक कर्मचारी थे, जबकि उनकी पत्नी पॉलीन नूर्नबर्ग शहर से 20 किमी (12.4 मील) दूर फ़्रैंकोनियन शहर हर्ज़ोजेनौराच में एक छोटी सी लॉन्ड्री चलाती थी

स्कूल छोड़ने के बाद, उनका बेटा, रुडोल्फ डैस्लर, अपने पिता के साथ जूता कारखाने में शामिल हो गया जब वो पहले विश्व युद्ध में लड़ने से लौटे था, तो रुडोल्फ को एक चीनी मिट्टी के बरतन कारखाने में एक सेल्समैन के रूप में प्रशिक्षित किया गया, और बाद में नूर्नबर्ग में एक चमड़े के व्यापार व्यवसाय में प्रशिक्षित किया गया

1924 में, रुडोल्फ और उनके छोटे भाई, एडॉल्फ, जिसका उपनाम “Adi” था, उसने एक जूते बनाने वाले कारखाने की स्थापना की और उन्होंने नए व्यवसाय का नाम – जर्मनी मे नाम – “गेब्रुडर डास्लर शूफैब्रिक” हिन्दी मे (डैसलर ब्रदर्स शू फैक्ट्री) रखा, जो उस समय का एकमात्र व्यवसाय था

जो स्पोर्ट्स के जूते का निर्माण करता था इस जोड़ी ने अपनी मां की लॉन्ड्री में अपना बिजनस शुरू किया उस समय शहर में बिजली की बहुत समस्या थी जिसकी वजह से बिजली बहुत कम आती थी लेकिन ये समस्या भी इन दोनों को आगे बढ़ने से नही रोक पाई इन दोनों भाईओ ने मिलकर एक साइकिल के पहिये से पेडल पावर का इस्तेमाल करके अपना काम चलते थे

इसके बाद इन दोनों भाइयों ने अपना बिजनस को आगे बड़ाने के लिए एक मोका मिला 1936 मे वो दोनों बर्लिन में समर ओलंपिक में स्पाइक्स वाले जूते से भरे सूटकेस के साथ बवेरिया से निकल पडे और संयुक्त राज्य अमेरिका के रनर जेसी ओवेन्स को अपने कंपनी के बनाए जूते का इस्तेमाल करके ओलिम्पिक मे हिस्सा लेने के लिए उन्हे मना लिया

जेसी ओवेन्स वो पहले ओलिम्पिक प्लेयर थे जिन्होंने इन दोनों भाईओ के बनाए गए जूते पहने और इन जूतों की मदद से उन्हे जादा तेज भागने मे बहुत मदद मिली जिसकी वजह से उन्होंने 4 गोल्ड मेडल जीते थे

और इसके बाद इन दोनों भाईओ के कारोबार मे बहुत बढ़ोतरी हुई और दूसरे विश्व युद्ध से पहले इनका कारोबार इतना बढ़ गया के इनका हर साल 200,000 जोड़ी जूते बिकने लगे

दोनों भाई नाजी पार्टी में शामिल हो गए, लेकिन रूडोल्फ पार्टी के थोड़ा करीब थे 1943 के मित्र देशों के बम हमले के दौरान भाइयों के बीच बढ़ती दरार एक टूटने के बिंदु पर पहुंच गई Adi और उनकी पत्नी एक बम आश्रय (बम शेल्टर) में चले गए जिसमें रुडोल्फ और उनका परिवार पहले से ही था

जाहिर तौर पर मित्र देशों के युद्ध विमानों का जिक्र करते हुए Adi ने टिप्पणी की, “यहाँ फिर से खूनी कमीने हैं,” , लेकिन रुडोल्फ, अपनी स्पष्ट असुरक्षा के कारण, आश्वस्त था कि उसका भाई उसका और उसका परिवार था

जब रुडोल्फ को बाद में अमेरिकी सैनिकों द्वारा उठाया गया और उसपे वेफेन एसएस (Waffen SS) के सदस्य होने का आरोप लगाया गया

दूसरे विश्व युद्ध के बाद दोनों भाईओ के विचारों मे इतने मतभेद होने लगे के वो सोचने लगे के अब व्यवसाय को कैसे चलाया जाए, इसके बाद दोनों भाइयों ने 1948 में अपने कारोबार को अलग अलग कर दिया रुडोल्फ अपनी कंपनी शुरू करने के लिए औरच नदी के दूसरी ओर चले गए

एडिडास की स्थापना के लिए एडॉल्फ ने अपने उपनाम-Adi- और अपने अंतिम नाम के पहले तीन अक्षर-Das- का उपयोग करके एक नाम का उपयोग करके अपनी खुद की कंपनी शुरू की जिसका नाम Adidas रखा गया

रुडोल्फ ने एक नई फर्म बनाई जिसको उन्होंने (RUDA) “रुडा” नाम दिया, उन्होंने रूडोल्फ में “RU” और डैस्लर में “DA” निकाल कर ये नाम बनाया था लेकिन से कुछ महीने बाद, रुडोल्फ ने कंपनी का नाम बदल कर 1948 में इसका नाम बदलकर PUMA प्यूमा शूफैब्रिक रुडोल्फ डैस्लर कर दिया तब से ये Puma नाम से जाना जाने लगा

आज हमने आपको बताया के Puma Kis Desh Ki Company Hai और इसके बारे मे आपको पूरी जानकारी दी उमीद है आपको ये जानकारी पसंद आई होगी

इसी टॉपिक के रिलेटेड आर्टिकल:- Adidas एडिडास का मालिक कौन है

हैलो मेरा नाम राहुल है और मेे स्टॉक मार्केट और म्यूचूअल फंड के बारे मे जानकारी पढ़ना और लिखना पसंद करता हू अगर आप भी स्टॉक मार्केट और म्यूचूअल फंड के बारे मे जानना चाहते है तो हमारे ब्लॉग Zookart.co पे रोज विज़िट करे